ENG | HINDI

इन्सानी दिमाग : 20 घंटे के अंदर याद कर सकते हैं मुश्किल से मुश्किल चीज़

इन्सानी दिमाग

इन्सानी दिमाग बहुत तेज होता है। कहने के लिए तो कंप्‍यूटर को सबसे तेज बताया जाता है लेकिन दोस्‍तों कंप्‍यूटर तो एक मशीन है जिसे खुद इंसान ने बनाया और तैयार किया है ल‍ेकिन इंसानी दिमाग पर कंप्‍यूटर भी हावी नहीं हो सकता है।

इंसान का दिमाग कुछ भी याद कर सकता है फिर चाहे वो कोई नई भाषा हो या फिर कोई नया विषय। जब हम किसी चीज़ या विषय को पहली बार देखते हैं तो उसका असर ज्‍यादा तीव्र गति से पड़ता है।

आपको बता दें कि अगर हम किसी विषय को पहली बार पढ़ रहे हैं तो हम उसे उसके बाद 20 घंटे तक याद रख सकते हैं।

पहली बार जब देखते हैं कोई नया विषय

दोस्‍तों, जब हम पहली बार किसी नए विषय या वस्‍तु को देखते हैं तो उसके प्रति दिमाग की स्‍पीड बहुत तेज हो जाती है। ऐसा इसलिए होता है क्‍योंकि उस नई चीज़ के बारे में दिमाग दिलचस्‍पी दिखाता है और उसके प्रति दिमाग की प्रतिक्रिया क्षमता बहुत ज्‍यादा होती है।

इस बात पर कई रिसर्च भी हो चुकी हैं कि इन्सानी दिमाग किस बात को लेकर कब, कितने समय में और कैसी प्रतिक्रिया करता है।

अध्‍ययन में हुआ खुलासा

लर्निंग कर्व नामक एक अध्‍ययन में इस बात पर रिसर्च की गई थी कि सीखने में लगने वाले समय और नए हुनर के बीच क्‍या संबंध है। इस रिसर्च के अनुसार जब आप पढ़ाई करते हैं तो शुरुआती घंटों में जिन चीज़ों को ज्‍यादा समय देते हैं उनका दिमाग पर लंबे समय तक असर रहता है। अपनी उत्‍पादकता को मापने के लिए कारोबारी दुनिया में इसका काफी इस्‍तेमाल भी होने लगा है।

20 घंटे तक रहता है याद

जी हां, जब हम कोई भी नई चीज़ को याद करना शुरु करते हैं तो वो हमें शुरुआती 20 घंटे तक याद रहती है। इसका मतलब है कि किसी नई चीज़ या हुनर के लिए शुरुआती 20 घंटे महत्‍वपूर्ण होते हैं। इस दौरान हमारे अंदर किसी नई जानकारी को लेकर उत्तेजना पैदा होती है। उस समय हमारा दिमाग उसके अनुसार प्रतिक्रिया करता है और अधिक से अधिक सूचना ग्रहण करता है।

जब समय के साथ बार-बार उत्तेजना पैदा होती है तो दिमाग की प्रतिक्रिया करने की शक्‍ति कम होती जाती है। इसके अलावा अगर आप इस दौरान कोई नई चीज़ या विषय पर गौर करते हैं तो पुरानी यादें धुंधलाती जाती हैं और नई चीज़ें अपनी जगह बनाने लगती हैं। जब हम कुछ नया याद करते हैं तो उसका ज्‍यादातर हिस्‍सा जल्‍दी और तेजी से याद हो जाता है, भले ही वो कितना भी मुश्किल हो।

दोस्‍तों, इन्सानी दिमाग की शक्‍ति का मुकाबला करना धरती पर मौजूद अन्‍य किसी भी जीव के बस में नहीं है। जैसा कि हमने बताया कि कोई भी नई चीज़ सीखने का असर अगले 20 घंटे तक रहता है, शायद यही वजह है कि एग्‍जाम में कुछ घंटे पहले की गई पढ़ाई लंबे समय तक याद रहती है।

इन्सानी दिमाग को समझ पाना बहुत मुश्किल है क्‍योंकि ये बहुत तेजी से काम करता है। आप दिनभर में क्‍या करते हैं और क्‍या सोचते हैं, ये सब दिमाग निर्धारित करता है।

Article Categories:
विशेष

Don't Miss! random posts ..