ENG | HINDI

क्या इसा मसीह की धरती पर फैला था सनातन धर्म?

hindu-christianity

अगर हम आपसे कहें कि इसा मसीह की धरती पर एक समय पर हिंदू राज था!!!!

मुझे यकीन है कि आप लोग शुरुआत में इसे बेबुनियाद चीज़ कहकर इस बात को टाल दोगे लेकिन हम आपके सामने कुछ ऐसी बातें लाए हैं जो वाकई में आपको आश्चर्यचकित कर देंगी.

ये रहीं कुछ बातें जो इस बात को साबित कर देंगी कि सारे के सारे मध्यपूर्व में एक समय पर सनातन धर्म छाया हुआ था.

1) ऐसा माना जाता है कि कृष्ण और क्राइस्ट एक ही थे. इन दोनों के नामों के बीच काफी समानताएं हैं. एक और चीज़ आपको इस theory पर विश्वास करने के लिए मजबूर कर देगी.

  1. क्राइस्ट का नाम जीसस बताया गया है और जीसस को येशू भी कहा जाता है और कृष्ण को भी येसू कहा गया है.
  2. दोनों को बचपन में बहुत सारे बुरे लोगों ने और शैतानों ने मारने की कोशिश की थी.
  3. दोनों आदमियों ने लोगों को सच्चाई और प्यार का मार्ग समझाया.

2) मुहम्मद के पैदा होने के 2500 हज़ार साल पहले, लाबी बिन अख्ताब बिन तुरफा नाम के कवी ने वेदों की प्रशंसा में अरबी भाषा में काफी लम्बी चौड़ी कविताएँ लिखी थीं. इससे साबित होता है कि सनातन धर्म का फैलाव कहाँ तक था.

3) इरान को आर्यनों की भूमि कहा गया है.

4) इसा मसीह का जो हुलिया बताया गया है वह हुलिया वैसे आदमियों से मेल खाता है जो पश्चिमी हिमालय और हिंदू कुश के पहाड़ों के आस-पास के इलाकों में रहते हैं.

5) ग्रीस और इजराइल जैसे देशों में हज़ारों साल पुराने सिक्के मिले हैं जिनपर शिव की छवि बनी हुई है.

6) सम्राट विक्रमादित्य का मध्य पूर्व तक फैला हुआ साम्राज्य जो इरान तक फैला हुआ था.

7) भविष्यपुराण में लिखी हुई भविष्यवानियाँ.

आप क्राइस्ट एंड कृष्णा टाइप करके इस मुद्दे पर गूगल पे अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

पढने के लिए धन्यवाद!

Don't Miss! random posts ..