ENG | HINDI

पाक में हिंदुओं का ऐसा हाल देखकर हर भारतीय का खून खौल जाएगा !

पाक में हिंदु

पाक में हिंदु की संख्‍या बहुत कम है और सभी जानते हैं कि वहां पर हिंदू परिवारों पर कितना अत्‍याचार होता है। पाकिस्‍तान की इस्‍लामिक हवा में हिंदुओं का सांस लेना भी दूभर हो रहा है

आज हम आपको तस्‍वीरों के ज़रिए पाक में हिंदु की दुर्दशा दिखाने जा रहे हैं। इनकी हालत को देखकर हर हिंदुस्‍तानी का खून खौल उठेगा।

ये तस्‍वीर पाक में हिंदु परिवार की है जो पाकिस्‍तान के जुल्‍मों से तंग आकर भारत से शरण मांग रहे हैं।

ऐसा ये इकलौता परिवार नहीं है जो अपना सब कुछ छोड़कर आने को मजबूर है। पाकिस्‍तान में ऐसे कई हिंदू परिवार हैं तो पाक और मुस्लिमों के अत्‍याचारों से परेशान हैं और दूसरे देशों में शरण ढूंढ रहे हैं।

अब इस तस्‍वीर को देखकर तो आप खुद ही समझ सकते हैं कि पाक में हिंदु को अधिकार तक नहीं दिए गए हैं और पाकिस्‍तान के बनने के सालों बाद भी यहां के हिंदू अपने हक के लिए लड़ाई कर रहे हैं। इसमें बच्‍चे तक शामिल हैं जिन पर पाक में मुसलमानों द्वारा अत्‍याचार किया जाता है।

पाकिस्‍तान में महिलाओं की दशा भी कुछ ठीक नहीं है और उन पर भी वहां तरह-तरह के अत्‍याचार  किए जाते हैं। पाकिस्‍तान में रहने वाली हिंदू महिलाएं ही नहीं बल्कि मुस्लिम महिलाओं तक पर अत्‍याचार होता है।

महिलाओं के रहने के लिए पाक देश सुरक्षित नहीं है।

खबरों की मानें तो पाक में हिंदु को ईस्‍लाम कबूल करने पर मजबूर किया जा रहा है। पाक में हिंदु की संख्‍या बहुत कम है और शायद आने वाले समय में बचे ही ना क्‍योंकि वहां पर बचे-कुचे हिंदुओं को भी ईस्‍लाम मानने के लिए मजबूर किया जा रहा है और इस वजह से उन पर अत्‍याचार किए जा रहे हैं।

चूंकि, पाकिस्‍तान एक इस्‍लामिक देश है इसलिए वहां पर मर्दों को एक से ज्‍यादा विवाह करने की छूट है और वहां पर तीन तलाक भी खूब जोरो से चलता है जबकि हाल ही में महिलाओं के विरोध पर भारत में तीन तलाक को बैन कर दिया गया है।

पूरी दुनिया में पाक की छवि एक आतंकवादी देश की तरह है और ऐसे में इसके नागरिकों को कोई पनाह देने के लिए तैयार नहीं है। क्‍या पता यहां के नागरिक हिंदुओं की आड़ में भारत में आतंकवाद की आग सुलगा बैठें। शायद इसी वजह से भारत पाक हिंदुओं को वीज़ा देने से कतरा रहा है लेकिन इस वजह से पाक के हिंदू वहीं रहने का मजबूर हैं। उन पर पाकिस्‍तान में कई तरह के जुल्‍म होते हैं जिन्‍हें सहने पर अब वो मजबूर हो गए हैं। पाकिस्‍तान में उनके लिए रहना दूभर हो गया है और भारत उन्‍हें अपनाना नहीं चाहता है।

पाक में जबरन इस्‍लाम अपनाने वाले इन लोगों में से अधिकांश वे थे जो भारत में शरण लेने आए थे लेकिन लंबी अवधि तक वीज़ा ना मिलने के कारण उन्‍हें पाकिस्‍तान लौटना पड़ा था। हम सभी वाकिफ हैं कि पाकिस्‍तान और बांग्‍लादेश जैसे देशों में हिंदुओं का क्‍या हाल है और उनके साथ कैसा बर्ताव किया जाता है। आज भी पाक और बांग्‍लादेश के कई हिंदू परिवार भारत में वीज़ा पाने का इंतज़ार कर रहे हैं लेकिन भारत सरकार भी मजबूर है क्‍योंकि उसकी खुद की आबादी इतनी ज्‍यादा है कि वो इन देशों के लोगों को ना अपनाने के लिए मजबूर है। ऐसे में पाक की हिंदू जनसंख्‍या ना घर की है और ना ही घाट की।

Don't Miss! random posts ..