ENG | HINDI

इस देश में हजारों लोग एक साथ नग्न होकर ढूंढते हैं बस ये एक चीज !

हदका मत्सूरी महोत्सव

अगर कोई इंसान पब्लिक प्लेस पर हमें बिना कपड़ों के नजर आ जाए तो उसे देखकर हम यही सोचते हैं कि कोई पागल या सनकी ही होगा जो इस तरह से खुलेआम सड़क पर घूम रहा है.

हमारा ऐसा सोचना भी गलत नहीं है क्योंकि एक आम इंसान बगैर कपड़ों के घर से बाहर भी निकलने की सोच भी नहीं  सकता.

लेकिन जरा सोचिए अगर आपको एक साथ हजारों लोग नग्न होकर सड़कों पर दिख जाएं, तब आप क्या करेंगे. जाहिर है आप इस तरह के नजारे को देखकर शॉक्ड रह जाएंगे.

चलिए आज हम आपको एक ऐसे ही देश के बारे में बताने जा रहे हैं जहां एक साथ करीब नौ हजार लोग नग्न होकर घंटों तक सड़क पर घूमते हैं.

इस महोत्सव में नग्न होते हैं हजारों पुरुष

दरअसल जापान में हर साल एक खास महोत्सव मनाया जाता है. हदका मत्सूरी महोत्सव नाम के इस  महोत्सव के दौरान पुरुष बेहद कम कपड़े पहनते हैं, यहां ये कहना गलत नहीं होगा कि वो नग्न हो जाते हैं.

इन पुरुषों के शरीर के प्राइवेट पार्ट वाले हिस्से पर एक कपड़ा होता है जिसे जापानी लॉइन क्लोथ यानी फंडोशी कहते हैं. यह महोत्सव जापान के अलग-अलग हिस्सों में हर साल मनाया जाता है.

आपको बता दें कि इस महोत्सव की शुरूआत ओकायामा से हुई थी और 500 साल पहले इसमें करीब 9 हजार पुरुषों ने हिस्सा लिया था और वो सभी नग्न थे. तब से हर साल यह परंपरा उसी तरह से निभाई जा रही है.

पवित्र लकड़ियां पाने के लिए होते हैं नग्न

इस नेकेड फेस्टिवल के दौरान नग्न लोगों के बीच शिंगी नाम की कुछ पवित्र लकड़ियां फेंकी जाती है. इन लकड़ियों को किस्मत का प्रतीक माना जाता है. मान्यता है कि ये लकड़ियां जिस किसी को मिलती है वो विजेता होता है.

कहा जाता है कि लकड़ियां पाने वाला शख्स अगर उन्हें लकड़ी के डब्बे में चावल के साथ रखे तो साल भर उसका घर खुशहाली से भरा रहेगा.

इस हदका मत्सूरी महोत्सव के दौरान नग्न होकर हजारों पुरुष शिंगी पाने की उम्मीद में घंटों घूमते हैं. इस महोत्सव की खासियत  यह है कि इसमें दूसरे देशों से आनेवाले लोग भी हिस्सा ले सकते हैं.

गौरतलब है कि हर साल हदका मत्सूरी महोत्सव को बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है और हजारों की तादात में पुरुष नग्न होकर घंटों तक शिंगी नाम की पवित्र लकड़ी को पाने की जद्दोजहद करते हैं.

Don't Miss! random posts ..