ENG | HINDI

तो इसलिए लड़कों से ज़्यादा तेज़ होती है लडकियाँ

लड़कों से ज़्यादा तेज़ होती है लडकियाँ

लड़कों से ज़्यादा तेज़ होती है लडकियाँ – लड़के और लड़कियों में से कौन ज़्यादा इंटैलिजेंट होता है, ये एक ऐसा प्रश्न है जिसका उत्तर हर कोई अपने हिसाब से देता है, मगर पिछले कुछ सालों में यदि पढ़ाई की बात करें तो लड़कियां लड़कों से आगे रही है.

बात चाहे बोर्ड परीक्षा में टॉप करने की हो या फिर लाइफ से तनाव को छूमंतर करने की, महिलाएं मर्दों से हर चीज में आगे रहती हैं. अरे भई, गुस्सा मत कीजिए ये हम नहीं कह रहे, बल्कि हाल में हुई एक रिसर्च में ये दावा किया गया है.

रिसर्च के अनुसार बात चाहे ध्यान केंद्रित करने की हो या फिर इमोशंस कंट्रोल करके लाइफ से तनाव दूर करने की महिलाओं का दिमाग पुरुषों की तुलना में ज्यादा बेहतर काम करता है.

इस रिसर्च के तहत 46,034 मस्तिष्क पर एक अध्ययन किया गया. इस अध्ययन में साफ तौर पर देखा गया कि महिलाओं का दिमाग पुरुषों की तुलना में कुछ क्षेत्रों में ज़्यादा सक्रिय रहा.

भाषा में छपे एक लेख के अनुसार इस अध्ययन में पाया गया है कि महिलाओं का दिमाग विशेषकर इमोशंस को कंट्रोल करने से लेकर ध्यान लगाने और तनाव के क्षेत्रों में पुरुषों की तुलना में अधिक सक्रिय पाया गया जबकि पुरुषों में मस्तिष्क के दृश्य और समन्वय केंद्र अधिक सक्रिय थे.

रिसर्च में पायी गयी भिन्नताओं को समझना महत्वपूर्ण है क्योंकि मस्तिष्क से जुड़ी बीमारियां पुरुषों और महिलाओं को अलग-अलग तरीके से प्रभावित करती हैं. महिलाओं में उल्लेखनीय ढंग से अल्जाइमर बीमारी,अवसाद और तनाव की अधिक दर देखी गयी जबकि पुरुषों में एडीएचडी की अधिक दर और बिहेवियार संबंधी समस्याएं देखी गई.

इसलिए लड़कों से ज़्यादा तेज़ होती है लडकियाँ – ज़ाहिर है इस रिसर्च के दावों से पुरुषों को परेशानी हो सकती हैं, उन्हें गुस्सा भी आ सकता है, क्योंकि उनकी नज़र में तो महिलाएं हमेशा से बेवकूफ ही रही हैं. और अब यदि कोई ये कहे कि महिलाएं उनसे भी ज़्यादा इंटैलिजेंट होती है, तो उनका मेल इगो तो हर्ट होगा ही न.

Don't Miss! random posts ..