ENG | HINDI

फ़्री के वाइफ़ाई से हो सकता है फ़ोन हैक, ऐसे करें बचाव !

फ़्री वाइफ़ाई

फ़्री वाइफ़ाई – आजकल की टेक्नोलॉजी भरी जिंदगी में एक बात तो तय है कि हम इंटरनेट के बिना एक मिनट भी नहीं रह सकते हैं.

दुनिया में जहां एक तरफ इंटरनेट कई अच्छे कामों के लिए इस्तेमाल किया जाता है वहीं  दूसरी ओर इसकी एक काली दुनिया भी है।एक ऐसी काली दुनिया जहां लाखों- करोड़ों लोग हैकिंग का शिकार होते हैं और ऐसा सिर्फ उनकी खुद की लापरवाही की वजह से होता है.

हैकिंग को लेकर सबसे पहला सवाल यह उठता है क‍ि क्या आपने कभी अपने फ़ोन या लैपटॉप को किसी फ्री वाईफाई से कनेक्ट किया है?

अगर हाँ तो आपको बता देंकि एक रिपोर्ट के तहत 95% फ्री वाईफाई सिक्योर नहीं होते हैं.

आइए अब आपको बताते हैं कि कैसे बचें इन हैकर्स से –

फ़्री वाइफ़ाई के नुकसान

  1. कोई भी ऑनलाईन पेमेंट ना करें

कभी भी अपने डिवाईस को फ्री वाईफाई से कनेक्ट कर के कोई भी ऑनलाईन पेमेंट ना करें क्योंकिफ्री वाईफाई पर हैकर्स की ज्‍यादा नज़र रहती है.

  1. जब इस्तेमाल में ना हो तो बंद कर दें वाईफाई

जिस समय आपका काम पूरा हो जाए वैसे ही आपको वाईफाई बंद कर देना चाहिए. ऐसा इसलिए है क्योंकि अपने फोन या लैपटॉप का वाईफाई खुला छोड़ना हैकर्स को दावत देने जैसा साबित हो सकता है. ऐसे समय में वह आसानी से आपका डिवाइस हैक कर सकते हैं.

  1. वीपीएन का इस्तेमाल करें

वीपीएन आपकी आईडेंटिटी को गुप्त रखता है जिसके कारण कोई भी हैकर आपके डिवाईस से आपकी जानकारी नहीं निकाल पाएगा.

  1. फ्री वाईफाई ना करें सेव

हम जब भी अपने डिवाईस को किसी नेटवर्क से कनेक्ट करते हैं तो वह हमेशा पूछता है कि‘क्या आप इस नेटवर्क को भविष्य के लिए सेव करना चाहते हैं या नहीं? बेहतर विकल्प रहेगा नहीं क्योंकि ऐसा करने से आपका फोन या लैपटॉप भविष्य में घटने वाली किसी भी तरह की दुर्घटना से बच सकता है.

इस तरह से फ़्री वाइफ़ाई का इस्तेमाल ना करे – सी सावधानी और ऊपर दिए गए तरीकों से आप अपनी बैंक डिटेल्स व पर्सनल डिटेल्स को सुरक्षित कर सकते हैं.

Don't Miss! random posts ..