ENG | HINDI

आप भी हो सकते हैं एटीएम हैकिंग का शिकार, इन 5 तरीकों से करें अपना बचाव !

ऐसे बहुत ही कम लोग होंगे जो अपने बैंक अकाउंट से पैसे निकालने के लिए बैंक जाते हैं और लंबी कतार में खड़े रहकर पैसे निकालते हैं क्योंकि आजकल हर कोई पैसे निकालने के लिए एटीएम कार्ड का इस्तेमाल करता है.

बैंक के चक्कर लगाने और बैंक की भीड़ से बचने के लिए ही अधिकांश लोग पैसे निकालने के लिए एटीएम कार्ड का इस्तेमाल करते हैं लेकिन जितनी तेजी से एटीएम कार्ड चलन बढ़ता जा रहा है उसी रफ्तार से पिछले कुछ सालों से  एटीएम फ्रॉड जैसी घटनाएं भी बढ़ रही हैं.

ऐसे में आपको भी एटीएम से पैसे निकालते वक्त सावधानी बरतने की जरूरत है क्योंकि आपकी ज़रा सी असावधानी आपको एटीएम हैकिंग का शिकार बना सकती है.

साइबर लॉ एक्सपर्ट्स के मुताबिक एटीएम से पैसे निकालते वक्त कुछ सावधानियां इंसान को बरतनी चाहिए ताकि वो एटीएम हैकिंग का शिकार ना बन सकें. आखिर कौन सी है वो पांच सावधानियां, चलिए इस लेख के जरिए हम आपको बताते हैं.

1- एटीएम मशीन के कार्ड पैनल की करें जांच

बीते कुछ समय में दिल्ली से कई ऐसे गिरोह का पर्दाफाश हुआ है जो एटीएम मशीन के कार्ड पैनल में ब्लैक प्लास्टिक नुमा चिप लगाते हैं और जैसे ही लोग पैसे निकालने के लिए अपना एटीएम कार्ड उस पैनल में डालते हैं तो उनके कार्ड से जुड़ी सारी जानकारी उस चिप में सेव हो जाती है.

कुछ घंटे बाद इस गिरोह के लोग उस चिप को एटीएम पैनल से निकालकर उसमें दर्ज सभी जानकारियों का इस्तेमाल करके लोगों के अकाउंट से पैसे निकाल लेते हैं. इस तरह का कोई भी फ्रॉड आपके साथ ना हो इसलिए एटीएम मशीन के कार्ड पैनल में अपना एटीएम कार्ड डालने से पहले उसकी जांच जरूर करें और उस पैनल में अगर आपको कुछ अजीब सा चिपका हुआ दिखे तो उस एटीमक का इस्तेमाल ना करें और इस बात की सूचना नजदीकी पुलिस को जरूर दें.

2- सुनसान इलाके के एटीएम का ना करें इस्तेमाल

साइबर लॉ एक्सपर्ट्स के अनुसार लोगों को एटीएम हैकिंग का शिकार बनानेवाले आरोपी ऐसे एटीएम को निशाना बनाते हैं जो सुनसान जगह पर मौजूद होते हैं. सुनसान इलाके में मौजूद एटीएम मशीन के साथ छेड़छाड़ होने की संभावना काफी ज्यादा होती है इसलिए ऐसी जगहों पर मौजूद एटीएम का इस्तेमाल करने से बचें.

3- किसी और को ना दें अपना एटीएम कार्ड

ऐसा अक्सर देखने को मिलता है कि कई बजुर्गों और महिलाओं को एटीएम कार्ड से पैसे निकालने में दिक्कत आती है, ऐसे में वो कतार में खड़े दूसरे लोगों से मदद मांग लेते हैं.

ऐसे में मदद करने के बहाने कुछ लोग पीड़ित शख्स के एटीएम कार्ड का पिन देखने के बाद उसके कार्ड को बड़ी ही चालाकी से डमी कार्ड के साथ बदल देते हैं और उनके खाते से पैसे निकाल लेते हैं. इसलिए अगर आपको एटीएम कार्ड से पैसे निकालने में दिक्कत आती है तो दूसरों से मदद मांगने के बजाय अपने साथ अपने किसी परिचित को ले जाएं.

4- जहां गार्ड ना हो उस एटीएम के इस्तेमाल से बचें

साइबर लॉ एक्सपर्ट्स के मुताबिक ऐसे कई एटीएम हैं जहां सुरक्षा गार्ड मौजूद नहीं होते हैं ऐसे में उन एटीएम मशीनों से छेड़छाड़ की ज्यादा संभावना होती है. ऐसे एटीएम मशीन के कार्ड पैनल से आरोपी छेड़छाड़ करते हैं ताकि वो दूसरों के कार्ड की जानकारी हांसिल करके उन्हें एटीएम हैकिंग का शिकार बना सकें. इसलिए आपको ऐसे एटीएम मशीन का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए जहां सुरक्षा गार्ड तैनात ना हो.

5- समय-समय पर बदलें अपना एटीएम पिन

एटीएम हैकिंग का शिकार होने से बचने के लिए जरूरी है कि आप समय-समय पर अपने एटीएम कार्ड का पिन नंबर बदलते रहें. साइबर लॉ एक्सपर्ट्स भी यही बताते हैं कि अगर आप हर छह से आठ महीने में अपने एटीएम कार्ड का पिन बदलते हैं तो आपके अकाउंट और एटीएम कार्ड को हैक करने की संभावनाएं काफी हद तक कम हो जाती हैं.

गौरतलब है कि एटीएम कार्ड का इस्तेमाल करते समय अगर आप इन 5 बातों का ख्याल रखते हैं तो फिर आप एटीएम हैकिंग का शिकार होने से खुद को बचा सकते हैं.

Don't Miss! random posts ..