ENG | HINDI

भारत के 7 सबसे मशहूर समलैंगिक पुरुष

feature

अमरीका में समलैंगिक विवाह अब ग़ैरकानूनी नहीं रहा.

अमरीका के कई शहरों में समलैंगिक जोड़ों ने और कई समलैंगिक लोगों ने इस बात की ख़ुशी मनाई और हर जगह लोगोने अमरीकी क़ानून की काफी तारीफ़ भी की. तो ऐसे में एक सवाल भारत के लगभग सभी युवाओं ने उठाया, सवाल है कि भारत में आखिर कब समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता मिलेगी?

भारत में भी कई समलैंगिक पुरुष और औरतें हैं जो अपनी sexual आज़ादी चाहते हैं.

भारत के समलैंगिक पुरुषों को कई त्रासदियाँ सहनी पड़ती हैं, समाज से, माँ-बाप से, दोस्तों से, आदि. और जो इस सब से उभर कर सबके सामने अपनी निडरता दिखा पाते हैं वे सही में आदर और सम्मान के हक़दार हैं.

हम आपके सामने लाए हैं 7 ऐसे ही भारतीय समलैंगिक पुरुष जिन्हों ने सबके सामने खुलकर इस बात को माना है/था.

1) सुशांत दिव्गिकर
बिग बॉस 8 के पार्टिसिपेंट रह चुके सुशांत दिव्गिकर ने सन 2014 में Mr. Gay World प्रतियोगिता में भाग लिया था और आखिरी 10 बचे प्रतियोगियों में से एक बने और उसी प्रतियोगिता में कई अवार्ड भी जीते.

sushantdivgikar

2) रोहित बल
भारत के सबसे प्रख्यात फैशन डिज़ाईनरों में से एक रोहित बल भी एक समलैंगिक हैं और फैशन इंडस्ट्री में इनका बड़ा नाम भी है.

rohitbal

3) रितुपर्नो घोष
21वी सदी के सबसे महान निर्देशकों में से एक, रितुपर्नो घोष एक समलैंगिक थे. उन्हें कई लोगों के ताने भी सुनने पड़े लेकिन उन्होंने बड़ी दिलेरी से समाज से लड़ाई की और एक महान निर्देशक बन सके. सन 2013 रितुपर्नो घोष की कैंसर की वजह से मृत्यु हो गई.

rituparnoghosh

4) मनीष अरोड़ा
अंतराष्ट्रीय स्तर पर फैशन की दुनिया में भारत को एक नई पहचान देने में मनीष अरोड़ा का बहुत बड़ा योगदान है.

manisharora

5) श्रीधर रंगायण
श्रीधर रंगायण एक बहुत ही मंझे हुए फिल्म निर्देशक हैं.

sridharrangayan

6) विक्रम सेठ
विक्रम सेठ एक बहुत ही मंझे हुए लेखक और कवी हैं. भारत में अंग्रेजी किताबें लिखनेवाले विक्रम सेठ वाकई में एक महान इंसान हैं. इन्हें भारतीय सर्कार ने पद्मश्री, साहित्य अकादमी पुरस्कारों से सम्मानित किया है.

vikramseth

7) इस्माइल मर्चेंट
हॉलीवुड के सबसे आदरणीय फिल्म निर्माताओं में से एक इस्माइल मर्चेंट का जन्म सन 1936 में भारत में हुआ था.

ismailmerchant

तो ये थे भारत के 7 सबसे मशहूर समलैंगिक पुरुष.

मेरे ख्याल से अब समय आ गया है कि सरकार समलैंगिक लोगों को समझे और ऐसे क़ानून बनाए जो उनके हित के लिए हों.
धन्यवाद!

Don't Miss! random posts ..