ENG | HINDI

फेसबुक का रंग नीला क्यों होता है? जानिए फेसबुक के अनजाने ‘राज’

फेसबुक के अनजाने राज

फेसबुक के अनजाने राज – दुनिया के हर कोने में फैलै फेसबुक पर यूजर्स की संख्या अरबों में है। हर कोई फेसबुक पर एक्टिव रहता है।

ये मंच अपने विचारों को व्यक्त करने का तो है ही लेकिन इसके अलावा भी इससे दुनिया के किसी भी कोने में बैठे किसी भी इंसान से बातचीत कर सकते हैं। फेसबुक पर कई लोग घंटों बिता देते हैं लेकिन फिर भी इसके कुछ ऐसे राज हैं जो बहुत ही कम लोगों को पता होगा या फिर किसी को भी पता नहीं होगा।

आइए आपको बताते हैं कि फेसबुक के अनजाने राज के बारे में।

फेसबुक के अनजाने राज – 

फेसबुक का रंग नीला क्यों होता है:

इस सवाल का जवाब जानकर आप हैरान रह जाएंगे। दरअसल, माना जाता है कि फेसबुक के मालिक जुकरबर्ग को कलर ब्लाइंड है और इस कारण वो लाल और हरे रंग को आसानी से नहीं देख पाते। इसी कारण उन्होंने फेसबुक का रंग नीला रखने का फैसला किया। जुकरबर्ग के लिए फेसबुक को कोई दूसरा रंग देना आसान नही था और इसीलिए उन्होंने फेसबुक का रंग नीला करना का ही फैसला लिया। अब जब नीले रंग ने दुनियाभर को अपना दीवाना बना दिया है तो ऐसे में जुकरबर्ग भी अब इसे बदलने की नहीं सोच रहे।

चुटकियों में खोज सकते हैं मार्क जुकरबर्ग को:

फेसबुक के मालिक मार्क जुकरबर्ग को फेसबुक पर ढूंढना चुटकियों का काम है। आप सिर्फ एक बटन दबाकर ही जुकरबर्ग को खोज सकते हैं। अगर आपने फेसबुक पर लॉग इन कर रखा है और अपने होम पेज पर हैं तो इस दौरान आप अपने यूआरएल को देखें। इसके बाद आप अपने यूआरएल के आगे सिर्फ ‘4’ जोड़ दें तो ये ऑटोमैटिक आपको जुकरबर्ग की वॉल पर पहुंचा देगा।

2 देशों में बैन है फेसबुक:

विश्व के लगभग हर देश में अपनी पैठ जमा चुके फेसबुक बेहद ही लोकप्रिय है। हर देश में अरबों लोग इसका लुत्फ उठाते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि दो देश ऐसे भी हैं जहां फेसबुक पर बैन लगा है। इन दो देशों में फेसबुक पर पूरी तरह रोक है। ये देश हैं चीन और उत्तर कोरिया। ये दोनों देश फेसबुक को अपने घर पर एंट्री नहीं दे रहे हैं। इन देशों को छोड़कर दुनिया के लगभग हर देश में फेसबुक धमाल मचा रहा है।

हर सेकेंड 5 लोग जुड़ते हैं:

एक बेहद ही हैरान करने वाला आंकड़ा ये है कि फेसबुक से हर सेकेंड 5 नये यूजर्स जुड़ते हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो हर सेकेंड फेसबुक पर 5 नये लोग अपनी आईडी बनाते हैं। हर सेकेंड ये आंकड़े बढ़ता ही जाता है। इसके अलावा फेसबुक पर हर दिन लगभग 30 करोड़ पिक अपलोड की जातीं हैं। हर 60 सेकेंड में 50,000 कॉमेंट्स और 3 लाख स्टेटस अपलोड किए जाते हैं। वहीं एक और दिलचस्प और हैरान करने वाला आंकड़ा ये है कि फेसबुक में लगभग 9 करोड़ से भी ज्यादा फर्जी अकाउंट भी हैं।

‘ऑसम’ के नाम से जाना जाता था ‘लाइक’:

आज आप किसी भी स्टेटस, फोटो को लाइक कर देते हैं। लाइक करने का मतलब होता है कि फेसबुक पर डाला गया वो पोस्ट या स्टेटस आपको पसंद आया। लेकिन क्या आप जानते हैं कि फेसबुक पर पहले लाइक का ऑप्शन नहीं था और इसकी जगह ऑसम (AWESOME) इस्तेमाल किया जाता था। लेकिन इसके बाद गहरे विचार-विमर्श के बाद इसके लाइक में बदल दिया गया।

‘पोक’ का नहीं है कोई मतलब:

फेसबुक पर एक ऑप्शन पोक का भी होता है। आपके पास भी कई बार नोटिफिकेशन आता या आया होगा कि आपको इस शख्स ने पोक किया। इसके बाद आप इस पड़ताल में लग जाते हैं कि आखिर पोक का मतलब क्या है। उसने मुझे पोक क्यों किया और बाद में आप ढूंढते-ढूंढते हार जाते हैं। लेकिन हम आपको बता दें कि पोक का कोई मतलब नहीं होता। अगर आप फेसबुक हेल्प सेंटर में भी इसका जवाब ढूंढेंगे तो भी आपको कोई जवाब नहीं मिलेगा। एक बार जब जुकरबर्ग से पोक का मतलब पूछा गया तो उन्होंने कहा कि इसे सिर्फ मस्ती के लिए बनाया गया और इसका कोई मतलब नहीं है।

ये है फेसबुक के अनजाने राज – फेसबुक आज एक ऐसा मंच बन चुका है जो दुनियाभर में अपनी धूम मचा रहा है। हर किसी के फोन में भी फेसबुक पहले से ही इंस्टॉल होकर आने लगा है। फेसबुक ने भारत में भी अपनी पहुंच गांव-गांव तक बना ली है। भारत के हर हिस्से में आपको युवा फेसबुक चलाते नजर आ जाएंगे। फेसबुक इसलिए भी लोगों को काफी पसंद आता है क्योंकि लोगों को इसमें अपने विचार रखने का मौका मिलता है।

Don't Miss! random posts ..