ENG | HINDI

एडविना माउंटबेटन के दो प्रेमी – जवाहरलाल नेहरू और अली जिन्ना ! भारत विभाजन का मुख्य कारण थी ये लव स्टोरी!

एडविना माउंटबेटन

आप एक बार Daughter of Empire पुस्तक को पढ़ते हैं तो इस प्रेम कहानी का सारा सच जान जायेंगे.

आज तक पंडित नेहरू पर यह आरोप लगते आये हैं कि एडविना माउंटबेटन के प्यार में नेहरू इस कदर पागल थे कि कई मौकों पर उन्होंने देश का अच्छा-बुरा भी सोचना छोड़ दिया था.

भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू और लेडी एडविना माउंटबेटन के बीच यौन संबंध नहीं थे. दोनों के बीच आध्यात्मिक और बौद्धिक रिश्ता था. दोनों के बीच गहरा आकर्षण था. दो शरीर एक आत्मा की तरह – यह कहना है लेडी माउंटबेटन की बेटी पामेला का.

पामेला ने अपनी पुस्तक डॉटर्स ऑफ एम्पायर में इस बात का खुलासा किया है.

( सबूत के लिए पढ़ें डॉटर्स ऑफ एम्पायर )

एडविना माउंटबेटन कौन थीं?

भारत के अंतिम वायसराय लॉर्ड माउंटबेटन की पत्नी का ही नाम एडविना माउंटबेटन है.

बड़ी चालाकी से यह स्त्री नेहरू के करीब रहती थी ताकि नेहरू से वह अपनी बातें मनवा सके. अब जब खुद एडविना माउंटबेटन की बेटी ने इस लव स्टोरी का खुलासा किया है तो हमें कोई और सबूत देने की आवश्यकता शायद नहीं है. इतना तो सिद्ध हो गया है कि एडविना माउंटबेटन और नेहरू के बीच मोहब्बत चल रही थी.

एडविना माउंटबेटन बनी भारत के विभाजन का कारण

(सबूत की पहले बात करें तो आप आर्य जितेन्द्र की पुस्तक ‘विष कन्या जरूर पढ़ें’.)

यह पुस्तक बताती है कि लन्दन हेरिस कालेज में तीन लोग साथ पढ़ते थे.

जवाहरलाल नेहरू – मोहम्मद जिन्ना और एडविना माउंटबेटन.

तीनों इंग्लैंड के एक ही कालेज में थे. कालेज के कुछ ऐसे दस्तावेज कुछ लेखकों के पास हैं, जो यह साबित करते हैं कि एडविना माउंटबेटन सुबह नेहरू से मिलती थीं और शाम को मोहम्मद अली जिन्ना से वह डेट करती थीं. यह खुलासा स्वर्गीय राजीव दीक्षित करते थे. आप आज भी इनके लेख पढ़ सकते हैं.

अब जब लॉर्ड माउंटबेटन भारत आये तो उनके साथ-साथ एडविना माउंटबेटन को भी इनकी पत्नी बनाकर भारत भेज दिया था.

लॉर्ड माउंटबेटन  ने अपनी डायरी में खुलासा किया था कि वह कभी भी पत्नी एडविना के साथ बिस्तर पर नहीं गये थे. असल में यह स्त्री सिर्फ और सिर्फ नेहरू और मोहम्मद अली जिन्ना के लिए भेजी गयी थी.

अंग्रेज नेहरु और जिन्ना की कमजोरी जानते थे. वह जानते थे कि दोनों एक ही औरत से प्यार करते हैं. मोहम्मद अली जिन्ना तो खुलेआम कई चीजों के लिए बदनाम था और उस समय में मुसलमान भाई, इसको अपना नेता नहीं मानते थे. भला एक सच्चा मुसलमान शराब कैसे पी सकता था?

तो अंग्रेजों ने विभाजन के लिए चली बड़ी चाल

कई पुस्तकें बताती हैं कि 3 जुलाई 1947 के दिन, समय कुछ प्रातः 3 बजे, पंडित नेहरू और लेडी एडविना एक साथ थे. एडविना नेहरू जी को उनके कुछ आपत्तिजनक तस्वीरें दिखाती हैं, जो उनके और नेहरू के बीच की थी. अब नेहरू जी को यह लेडी ब्लैकमेल कर, विभाजन के दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर करा लेती है.

इसी तरह से अगले दिन मोहम्मद अली जिन्ना को एडविना कुछ अश्लील तस्वीरें दिखाकर, पाकिस्तान निर्माण के दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर करा लेती हैं.

इस तरह से यह विष कन्या भारत के विभाजन को सम्पूर्ण बना देती है.

जब गाँधी जी नाराज हुए

जब गांधीजी को यह खबर लगी तो वह काफी नाराज हो जाते हैं. लेकिन दिक्कत यह थी कि अगर नेहरू भारत के प्रधानमंत्री नहीं बनते तो अंग्रेज भारत को छोड़कर जाने के लिए राजी नहीं थे. इसलिए भारत के प्रधानमंत्री नेहरू बन जाते हैं. किन्तु गांधी जी की पसंद के व्यक्ति सरदार पटेल जी थे.

तो इस तरह से इस अकेली महिला एडविना माउंटबेटन, भारत के विभाजन का कारण बन जाती है.

इस कहानी की सच्चाई आप स्वर्गीय राजीव दीक्षित जी के भाषणों से लगा सकते हैं और साथ ही साथ कई तरह की पुस्तकें भी आपको यह सच्चाई बता देती हैं. पहली सच्चाई तो आप `डॉटर्स ऑफ एम्पायर` नामक पुस्तक से जांच सकते हैं. जो बताती है कि हाँ नेहरू और एडविना में प्रेम संबंध थे. दूसरी सच्चाई जो बताती है कि नेहरू-जिन्ना को एडविना ने ब्लैकमेल किया था वह आप आर्य जितेन्द्र की पुस्तक विष कन्या से जरूर जांच लें.

लेकिन राजीव दीक्षित की कई बातें अब गलत भी निकल रही हैं.

तो अब जैसे कि एडविन की बेटी ने भी नेहरू और उनकी माता के बीच प्रेम संबंध होने की बात बोली है.

उसी तरह से अन्य सबूतों की भी जाँच होनी चाहिए. जो लोग दावा करते हैं कि नेहरु और एडविन में शारीरिक संबंध थे, उन लोगों को सामने आकर और विस्तार से अपनी बातें बताने का सही समय आ चुका है. इससे अच्छा समय शायद ही कभी और आएगा. आपके पास अगर इस कहानी से जुड़ी कोई भी जानकारी हो तो हमें जरूर शेयर करें.

 

https://www.youtube.com/watch?v=C1qU-YD_Fe0

 

Don't Miss! random posts ..