ENG | HINDI

क्‍या आपको पता है कि आपके फोन से कोई और कमा रहा है पैसे

फोन से पैसा कमाना

फोन से पैसा कमाना – मोबाइल आजकल सभी की ज़िंदगी का हिस्सा है और एक ऐसी ज़रूरत है जिसके बिना काम ही नहीं चलता है।

जीने के लिए मोबाइल भी आज के वक्त की एक ज़रूरी आवश्यकता बन गया है। अब आप ही बताइए क्या आपका गुज़ारा मोबाइल के बिना हो पाएगा?

आजकल मोबाइल प्लान्स भी इतने सस्ते हो गए हैं कि चाहे अनचाहे आप इनका इस्तेमाल कर ही लेते हैं।

ऐसे में मोबाइल आपको लाखों फायदे दे रहा है लेकिन आपका थोड़ा बहुत खर्चा भी करवा रहा है, जो कि सभी मायनों में जायज़ भी है लेकिन क्या आपको पता है कि आपका खर्चा करवाने वाला ये आपका मोबाइल किसी और का फायदा भी करवा रहा है, आपके मोबाइल से कोई और पैसा कमा रहा है और थोड़ी बहुत नहीं बल्कि अच्छी कमाई भी कर रहा है।

अब आप सोच रहे होंगे कि ऐसा कैसा मुमकिन है तो मैं आपको बता दूं कि ऐसा आपके मोबाइल की कंप्यूटिंग पावर का एक हिस्सा किसी और काम में लगाकर किया जा रहा है। फोन से पैसा कमाना आसान हो सकता है –

अगर आांकड़ों और रिपोर्ट्स पर नज़र डालें तो 2017 के आखिर महीनों में वर्चुअल करेंसी बनाने में काफी तेज़ी आई है और ऐसा, वेबसाइट और लोगों के फोन का इस्तेमाल कर किया जा रहा है। इस प्रोसेस को क्रिप्टोकरंसी माइनिंग के नाम से जाना जाता है। ये एक वर्चुअल हैकिंग प्रोसेस है और पिछले कुछ वक्त में ऐसा काम करने वाले एप्स की संख्या में 34 पर्सेंट का इज़ाफा हुआ है।

हैकर्स के लिए ये काम बहुत ही आसान है।

इसके लिए एक साधारण से कोड की ज़रूरत होती है और इस कोड को किसी वेबसाइट के साथ जोड़ दिया जाता है जिसके बाद ये सारी प्रक्रिया शुरू होती है। जिस वेबसाइट से इस कोड को जोड़ा जाता है, जब यूज़र उस वेबसाइट पर जाता है तो साइबर हैकर्स मोबाइल की कंप्यूटिंग पावर इस्तेमाल करके माइनिंग स्टार्ट कर देते हैं।

अगर आप सोच रहे हैं कि ये समस्या अभी हाल ही में सामने आई है तो आप गलत हैं। दरअसल, मोबाइल या लैपटॉप के ब्राउज़र का इस्तेमाल कर फायदा कमाने की ये प्रक्रिया 2013 से ही शुरू है। हां ये और बात है कि पिछले कुछ साल से इस काम में इतनी तेज़ी नहीं थी जितनी अब सामने आई है।

चलिए आपको अब ये प्रोसेस हम एक साधारण उदाहरण के ज़रिए समझाते हैं। आईआरसीटीसी, रेलवे टिकट बुक करने की वेबसाइट जिसके बारे में आप सभी को पता होगा। इस वेबसाइट पर रोज़ तकरीबन 1 करोड़ लोग विजिट करते हैं और हैकर्स ऐसे ही किसी वेबसाइट की तलाश में रहते हैं जिस पर ट्रैफिक ज्यादा हो।

एक ब्लॉगर ने इस बारे में जानकारी देते हुए कहा कि अगर आप एक हफ्ते की ही बात करें तो एक हफ्ते तक ब्लॉग में ये कोड अप्लाई करने से उसे तकरीबन एक हफ्ते में 0.0045 मोनेरियो का फायदा हुआ। जिसकी कीमत तकरीबन 1300 रूपये थी। ये भी बिटकॉइन की तरह एक करेंसी है।

इस बात से ही आप अंदाज़ा लगा सकते हैं फोन से पैसा कमाना कोई मुश्किल नहीं है. ये हैकर्स आपके फोन या किसी विशेष वेबसाइट के ज़रिए कितना पैसा कमा सकते हैं और किस तरह से यूज़र्स को बेवकूफ बना रहे हैं ?

Don't Miss! random posts ..