ENG | HINDI

इस स्टार्टअप ने गाय के गोबर से बनाई डिजाइनर ड्रेसेस

गोबर की ड्रेसेस

गोबर की ड्रेसेस – हमारे देश में गाय को महत्वपूर्ण दर्जा दिया जाता है।

गाय न सिर्फ हमें दूध देती है, बल्कि उसका गोबर भी काफी फायदेमंद होता है। गाय का गौमूत्र भी कई बीमारियों को दूर भगाने में उपयोगी साबित होता है और इसे पूजा में भी इस्तेमाल किया जाता है। वहीं आप सभी ने गोबर से घर, खाद और कीटनाशक दवाइयां बनते हुए देखा होगा। ग्रामीण इलाकों में तो गोबर से बने उपलों पर भोजन भी पकाया जाता है।

लेकिन हाल ही में एक महिला ने गोबर से हैरान कर देने वाला कारनामा कर दिखाया है।

जिस महिला के बारे में हम आपको बता रहे हैं उसने गोबर से एक ऐसी चीज बना दी, जिसकी आपने शायद कभी उम्मीद भी नहीं की होगी। जिसने भी इस महिला के इनोवेशन के बारे में सुना वो हैरान हो गया। क्या आपने कभी गाय के गोबर की ड्रेसेस के बारे में सुना है? अब तो आप भी ये ही सोच रहे होंगे कि भला गोबर की ड्रेसेस कौन बनाता है? लेकिन नीदरलैंड की रहने वाली एक महिला ने यह मुमकिन कर दिखाया है।

गोबर की ड्रेसेस –

गोबर की ड्रेसेस

जी हां, इस महिला का नाम जलिला एसाइदी है। महिला की स्टार्टअप कंपनी ने ही गाय के गोबर से बेहद खूबसूरत ड्रेसेस बनाई है। इस महिला ने कुछ साल पहले ही अपनी ‘वन डच’ नामक स्टार्टअप कंपनी शुरू की थी। जलिला बायोआर्ट एक्सपर्ट हैं और उन्होंने गोबर से ड्रेसेस बनाकर ये साबित कर दिया है कि इस दुनिया में नामुमकिन कुछ भी नहीं है।

गोबर की ड्रेसेस

गोबर में सेल्यूलोज पाया जाता है और जलिला ने इस सेल्यूलोज़ को अलग करके ही उससे ड्रेस बनाने का एक नायाब तरीका ढूंढ निकाला है। जलिला ने गोबर से सेल्यूलोज़ निकाला और उसे ‘मेस्टिक’ नाम दिया। ‘मेस्टिक’ के जरिए उन्होंने सबसे पहले टॉप और शर्ट बनाए। इन तस्वीरों में आप जलिला द्वारा गोबर से बनाई हुई ड्रेसेस भी देख सकते हैं।

गोबर की ड्रेसेस

जलिला इस सेल्यूलोज़ के जरिए सिर्फ ड्रेस ही नहीं बल्कि पेपर और बायो-डीग्रेडेबल प्लास्टिक भी बना चुकी है। इस जोरदार आईडिया के लिए जलिला ‘चिवाज वेंचर की ओर से दो लाख डॉलर (1.40 करोड़ रुपये) इनामी राशि  व एच एंड एम फाउंडेशन ग्लोबल चेंज अवॉर्ड’ से भी सम्मानित हो चुकी है। अपनी इस कामयाबी के बाद जलिला बहुत खुश है। जलिला द्वारा गोबर से बनाई गई ड्रेसेस को एक फैशन शो इवेंट में प्रेजेंट भी किया गया था।

गोबर की ड्रेसेस

अपनी कामयाबी के बारे जलिला का कहना है कि ‘लोग गोबर को बदबूदार और व्यर्थ समझते थे, मगर यह गोबर बहुत काम की चीज है। उन्होंने आगे कहा कि ‘आने वाले समय में तो गोबर से बनी हुई डिजाइनर ड्रेसेस का इस्तेमाल बड़े-बड़े फैशन शोज़ में भी किया जाएगा।’

गोबर की ड्रेसेस

जिसने भी जलिला के इस अनोखे कारनामे के बारे में सुना वो हैरान रह गया और जलिला की तारीफ भी की। सोशल मीडिया पर भी इन दिनों जलिला द्वारा बनाई गई गोबर की ड्रेसेस की तस्वीरें वायरल हो रही हैं। सच कहे तो जलिला ने इस तरह की इको-फ्रेंडली ड्रेसेस बनाकर वाकई एक नई मिसाल पेश की है।

Don't Miss! random posts ..