ENG | HINDI

क्या वाकई में जूतों से होती है आदमी की औकात की पहचान?

pair of shoes

कहते हैं कि आदमी की पहचान उसके जूतों से होती है. क्या यह बात सही है?

एक हद तक तो सही भी और एक तरह से गलत भी है.

आज की कारपोरेट दुनिया में सूट की बड़ी एहमियत होती है. हल्के रंग का शर्ट और गहरे रंग की पैंट. पैंट से मिलते-जुलते रंग के मोज़े और अंत में एक जोड़ी चमचमाते हुए चमड़े के जूते.

कॉलेज जाने वाले छात्र तो कभी किरमिच(canvas) के जूते पहनते हैं या फिर इनका काम एक जोड़ी चप्पलों में ही हो जाता है.
लेकिन अब भी एक सवाल बरकरार है कि जूते आदमी की औकात कैसे बता सकते हैं?

महात्मा गांधी का आत्मविश्वास अगर उनकी नम्र चप्पलों से नापा-तोला जाए, तो यह गणित किसी काम का नहीं रहेगा. वहीँ अगर हम दूसरा उदाहरण लें, तो यह कहावत कि “आदमी की पहचान, उसके जूतों से होती है” गलत साबित हो सकती है. हमारे भारत के महान चित्रकार एम.एफ.हुसैन जी, तो कभी जूते- चप्पल पहनते ही नहीं थे. यह इनकी एक पहचान हो गयी थी. इसका मतलब एम.एफ़.हुसैन तो, ‘औकात’ के परे थे और वैसे भी आदमी की ‘औकात’ का पता लगाने वाले हम कौन होते हैं?

लेकिन सही कपड़ों की तरह ही सही फुटवियर(जूते-चप्पल) भी बहुत ज़रूरी होते हैं.

आइये अब एक ऐसी सूची देखते हैं, जो अलग-अलग जूतों के हिसाब से आदमियों की पहचान बताती है.
1. बेचाप जूते (sneakers)
sneakers
बेचाप जूते सारी दुनिया में प्रसिद्ध है और लोगों के मनपसंद हैं. इन्हें देख कर एक ही ख्याल आता है,  ‘मस्त’, बेचाप जूते काफी अन्तराष्ट्रीय सितारों की पहचान सी बन गए हैं.

2. ब्लैक ड्रेस शूज़
formal black
यह जूते दुनिया भर में पढ़े-लिखे और शिष्ट मनुष्य की पहचान हैं. इन्हें देखने के बाद एक ही शब्द में आदमी की पहचान की जा सकती है और वो शब्द है ‘संगठित’.

3. एंकल बूट्स
ankleboots
एंकल बूट्स लम्बे और गठीले मर्दों पर खूब जमते हैं. यह जूते एक तरह से ताकत का प्रतीक होते हैं और इन जूतों का वाकई कोई मुकाबला नहीं है.

4. लोफर
GUCCI-LOAFERS-SHOES
नाम पर मत जाइए. ये जूते, काफी लोगों की पसंद हैं और ये आदमी की होशियारी को दर्शाते हैं. इन्हें पहनने वाला ‘प्रौढ़’(mature) नज़रिए का व्यक्ति माना जाता है.

5. चप्पल
kolhapuri-chappal
चप्पल पहनने वाले लोग अपने बचपन के करीब होते हैं और समाज की पुरानी हो चुकी सोच को मानना ज़रूरी नहीं समझते (कोल्हापुरी अपवर्जित). वे ‘कूल’ कहलाते हैं.

6.पादुका
paduka
पादुका पहनने वाले तो काफी कम मिलेंगे और उनकी ‘औकात’ का पता लगाना काफी मुश्किल हो सकता.
आप अगर पादुकाएं पहनते हैं तो आप पक्के तौर पर स्वदेशी हैं.

7. सैंडल
sandal
सैंडल प्रयोग करने वालों को ‘आलसी’ माना जा सकता है और अगर कोई मोज़े और सैंडल साथ में पहने तो फिर तौबा-तौबा!

तो इस तरह, विभिन्न-विभिन्न जूतों से विभिन्न-विभिन्न आदमियों की विभिन्न-विभिन्न औकातों का पता चलता है. सही या गलत….यह आपके ऊपर है. अपनी पहचान का पता लगाइए और मन हो तो पहचान बदल भी लीजिये. जूते ही तो हैं!

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...

Don't Miss! random posts ..