ENG | HINDI

जूठा खाने से प्यार नहीं बल्कि बढ़ सकता है आपके जीवन में दुर्भाग्य !

जूठा खाना

कहते हैं कि जूठा खाना खाने से प्यार बढ़ता है और इसी वजह से अधिकांश लोग जैसे कि प्रेमी-प्रेमिका, दोस्त-यार, पति-पत्नी एक-दूसरे का जूठा बड़े ही प्यार से खा लेते हैं.

हर किसी को यही लगता है कि जूठा खाना खाने से प्यार बढ़ता है लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है क्योंकि ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जूठा खाना किसी व्यक्ति के जीवन में दुर्भाग्य को भी आमंत्रण दे सकता है.

ज्योतिष शास्त्र में कहा गया है कि खाना खाते समय अगर कुछ बातों का खास ख्याल रखा जाए तो इससे स्वास्थ्य लाभ और देवी-देवताओं की कृपा आसानी से प्राप्त की जा सकती है.

हिंदू धर्म में भोजन को सिर्फ खाद्य पदार्थ नहीं माना जाता है बल्कि अन्न को पूजनीय माना गया है.

आपको बता दें कि शास्त्रों के अनुसार किसी का जूठा खाना नहीं खाना चाहिए क्योंकि ऐसा करनेवाले व्यक्ति किसी और का दुर्भाग्य अपने नाम कर लेते हैं और अपने हाथों से अपनी समस्याएं बढ़ा लेते हैं.

आइए इस लेख के ज़रिए हम आपको बताते हैं कि आखिर क्यों किसी जूठा खाना नहीं खाना चाहिए.

नहीं खाना चाहिए किसी का जूठा खाना

शास्त्रों के अनुसार खाना खाते समय टीवी देखना, संगीत सुनना और बातचीत करना अच्छा नहीं माना गया है. शास्त्रों में यह भी बताया गया है कि व्यक्ति को किसी का जूठा खाना भी नहीं करना चाहिए.

दरअसल लोगों के बीच ऐसी मान्यता है कि किसी का जूठा खाने से प्यार बढ़ता है लेकिन शास्त्रों के अनुसार किसी का जूठा भोजन खाकर आप किसी और का दुर्भाग्य अपने नाम कर लेते हैं.

दरअसल हिंदू धर्म में भोजन को केवल खाद्य पदार्थ ना मानकर देवी-दवेताओं की तरह पूजनीय माना गया है. ज्योतिषशास्त्र के अनुसार व्यक्ति की कुंडली का दूसरा भाव जुबान, वाणी सुख, धन की बचत और जीवन में मिलनेवाले सुखों को संबोधित करता है.

लेकिन जो लोग किसी जूठा भोजन करते हैं तो इससे व्यक्ति की वाणी और भाषा पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है. अगर व्यक्ति का दूसरा भाव यानी वाणी का भाव प्रभावित हो गया तो फिर उसकी भाषा में कर्कशता का भाव आ जाता है और उसे कई सारे दुष्प्रभाव झेलने पड़ सकते हैं.

कहा जाता है कि किसी का जूठा भोजन खाने से व्यक्ति के जीवन में कई तरह के बुरे प्रभाव पड़ते हैं. इससे उसके सुखों में कमी आती है, उसके घर-परिवार में कलह बढ़ती है और भोग विलासिता में भी कमी आती है.

इतना ही नहीं हम जिसका जूठा खाना खाते हैं उनके अशुद्ध विचार हमारे मन में घर कर जाते हैं जिसका सबसे बुरा असर हमारे धन पर होता है. कहा जाता है कि किसी का जूठा खाने से धन संचय नहीं हो पाता है और व्यक्ति को आर्थिक तौर पर संकटों का सामना करना पड़ता है.

बहरहाल अगर आप भी प्यार मोहब्बत में आकर किसी का जूठा खाना खाते हैं तो फिर आपको अपनी यह आदत फौरन बदल देनी चाहिए नहीं तो हो सकता है कि जाने-अंजाने में आप अपने हाथों से अपने दुर्भाग्य को आमंत्रण दे बैठें, इसलिए इससे बचने का सबसे बेहतर तरीका यही है कि आप किसी का जूठा खाने से परहेज करें.

Don't Miss! random posts ..