ENG | HINDI

ऑनलाइन शॉपिंग : ये सौदा नुक्सान का भी हो सकता है!

ऑनलाइन शॉपिंग

आजकल लोगों का रुजान ऑनलाइन शॉपिंग की तरफ बढ़ रहा है.

ऐसे में  लोगो को लगता है कि समय की बचत होती है और आने जाने के पैसे खर्च नहीं होते.

लेकिन क्या सच में ऑनलाइन  शॉपिंग से समय और पैसों की बचत होती है या यह सिर्फ  बातें ही है.

ऑनलाइन  शॉपिंग को आज की पीढ़ी अच्छा और सुलभ मानती है लेकिन इस ऑनलाइन शॉपिंग के कई नुक्सान भी है, जिनको हमें अनदेखा नहीं करना चाहिए .

1.  साइज़ में दिक्कत

 जब हम ऑनलाइन शौपिंग करते है, तो हमे लगता है कि हमारी साइज हमे पता है और यह साइज़ सही होगी. लेकिन ज्यादातर ऐसा नहीं होता क्योकि हम उस सामान को नाप कर नहीं देख पाते इसलिए हमे बहुत बार इस समस्या का सामना करना पड़ता है. हम जिस समय और पैसे की बचत का सोच कर ऑनलाइन शॉपिंग करते है वह हमें भारी पड़ जाता है.

2.  उत्पाद  की गुणवता से समझौत

ऑनलाइन शॉपिंग में  उत्पाद की गुणवत्ता हम छूकर उसकी वास्तविक रूप को देख नहीं पाते. हमे ऑनलाइन शॉपिंग साईट में जो फोटो दिखाई जाती है हम उसको सही समझ कर उस सामान को मंगवा लेते हैं लेकिन जब वो सामान हमारे पास आता है तो उसका रंग थोडा बहुत अलग या कभी कभी बहुत ज्यादा  अलग लगता  है. उस उत्पाद को छूने पर भी संतुष्टि नहीं हो पाती ऐसे में वापस करने के झंझट से बचने के लिए सोचते हैं कि एक दो बार पहन कर फेक देंगे या किसी और को दे देंगे लेकिन इससे समय और पैसे दोनों की बर्बादी होती ही है.

3.  वापसी की समस्या

हमे लगता है उत्पाद अच्छा न होने पर हम उसको वापस कर देंगे लेकिन हर उत्पाद के साथ उनकी वापसी बीमा नहीं होती ऐसे में गलत उत्पाद आ जाने पर हम फस जाते हैं और यहाँ भी समय और पैसों की बर्बादी हो जाती है

4.  रकम वापसी में देरी

जब हम ऑनलाइन शॉपिंग से कोई सामान लेकर वापस करते हैं तो ना ही तुरंत सामान मिलता है और ना ही पैसे. ऐसे में हमारा पैसा और सामान दोनों कुछ समय के लिए फस जाता है. कई बार पैसे आने में देरी भी हो जाती है. ऐसे में हम जिस समय और पैसे बचत के लिए सोच कर यह शॉपिंग करते है, हमे वह महंगा पड़ जाता है.

5.  बिना मोलताल

ऑनलाइन शॉपिंग में हम किसी सामान पर मोलतोल नहीं कर सकते. जो प्राइज लिखा होता है उतने में ही खरीदना पड़ता है और बिना सामान की कीमत चुकाए सामान को खोल भी नहीं सकते. नगदी पैसा देने के बाद जब सामान खोलने पर सामान से सम्बंधित असंतुष्टि होने पर भी तुरंत सामान को वापस नहीं भेज पाते. कई बार तो कम कीमत वाले उत्पाद पुराने भी होते हैं.

ऑनलाइन शॉपिंग में अगर उत्पाद सही निकला तब तो ठीक है नहीं तो ज्यादातर समझौता ही करना पड़ता है.

ऐसे में हम जिस पैसे और समय की बचत का सोच कर ऑनलाइन शॉपिंग अपनाते है उसके नुकासान उठाने पड़ते हैं.

बाज़ार से शॉपिंग में समय और आनेजाने के पैसे लगते हैं लेकिन उत्पाद से सम्बंधित पूरी संतुष्टि भी मिलती है और  बाज़ार में घुमने से और भी कई अच्छी और महत्वपूर्ण जानकारी मिल जाती है.

…और साथ ही साथ  घूमना फिरना मौज मस्ती  भी हो जाती है.

Don't Miss! random posts ..