ENG | HINDI

टेस्ट क्रिकेट की दुनिया में इन 5 कारणों से महेंद्र सिंह धोनी थे विराट कोहली से बेहतर कप्तान

धोनी कोहली से बेहतर कप्तान

टेस्ट क्रिकेट से बेशक पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी संन्यास ले चुके हैं लेकिन आज भी मैच के बीच कई अहम मौके ऐसे आते हैं जब धोनी को दर्शक याद करने लग जाते हैं.

धोनी को पसंद करने वाले आज भी देश में करोड़ों लोग हैं.

एक तरफ क्रिकेट के पंडित बोल रहे हैं कि धोनी जल्द ही संन्यास लेने वाले हैं वहीँ दूसरी तरफ आज भी धोनी कई मामलों में नये कप्तान विराट कोहली से बेहतर नजर आ जाते हैं.

तो आइये आज हम आपको बताते हैं कि आखिर क्यों महेंद्र सिंह धोनी टेस्ट क्रिकेट की दुनिया में आज भी धोनी कोहली से बेहतर कप्तान बने हुए हैं. बेशक आज धोनी कप्तानी छोड़ चुके हैं लेकिन इन 5कारणों से धोनी कोहली से बेहतर कप्तान थे-

धोनी कोहली से बेहतर कप्तान

  1. पिच को विराट कोहली से बेहतर समझते थे धोनी

महेंद्र सिंह धोनी का पिच को समझने का अनुभव और आंकलन दोनों ही विराट कोहली से बेहतर थे. विराट कोहली आज भी पिच को समझने के लिए कोच या अन्य सपोर्ट स्टाफ पर निर्भर होते हैं. कईबार तो पिच के हिसाब से कोहली टीम का चयन तक नहीं कर पाते हैं. इस वजह से महेंद्र सिंह धोनी टेस्ट में कोहली से बेहतर कप्तान माने जा सकते हैं.

धोनी कोहली से बेहतर कप्तान

  1. धोनी एशिया के बाहर खुद को साबित करके लौटे थे

कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में भारत की टीम कई बार बाहर टेस्ट खेलने गयी और उसने तब भी खुद को साबित किया था. एशिया के बाहर टेस्ट जीतने का धोनी का प्रतिशत कुछ 53 सेअधिक रहा है. वहीँ कोहली का एशिया के बाहर जीत प्रतिशत कुछ 40 ही है. आंकड़ों की मानें तो धोनी भारत के बाहर भी एक अच्छे कप्तान साबित हुए थे.

धोनी कोहली से बेहतर कप्तान

  1. धोनी टीम को एकजुट रखते थे

महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में टीम एकजुट रही थी. कप्तानी छीनने से पहले जरुर टीम में गड़बड़ी चल रही थीं अन्यथा धोनी की कप्तानी में सही खिलाड़ी एक होकर मैदान पर उतरते थे. वहीं दूसरीतरफ कोहली आज एक तानाशाह के रूप में अधिक नजर आते हैं. कोहली के सामने कोई खिलाड़ी अपनी चलाने की हिम्मत नहीं कर सकता है और आगे चलकर यह समस्या विकराल रूप ले सकती है.

धोनी कोहली से बेहतर कप्तान

  1. धोनी मैदान पर रहे कूल

धोनी को कूल कप्तान बताया जाता है. वह जब भी मैदान पर उतरे तो उन्होंने कभी किसी को अपशब्द नहीं बोले. वह सिर्फ और सिर्फ टीम की जीत पर विश्वास रखते थे. हो सकता है कि विराट काक्रिकेट खेलने का अंदाज अलग हो लेकिन जितनी जल्दी वह अपशब्द करके लग जाते हैं वह इतनी बड़ी टीम के कप्तान को शोभा नहीं देता है. कोहली को समझना होगा कि वह एक ऐसी टीम केकप्तान हैं जो अब नंबर वन है इसलिए दुनिया कोहली को कॉपी करती है. महेंद्र सिंह धोनी इस बात में भी कोहली से चार कदम आगे थे.

धोनी कोहली से बेहतर कप्तान

  1. रिव्यू लेने का निर्णय कोहली से अच्छा होता था

धोनी टीम के रिव्यू को कोहली से बेहतर लेना जानते थे. टेस्ट में रिव्यू एक बड़ी चीज हो गयी है. कोहली रिव्यू लेने में काफी जल्दी कर देते हैं लेकिन धोनी के रिव्यू कोहली से अधिक सटीक होते थे.इस मामले में भी कोहली को अभी धोनी से काफी कुछ सीखना चाहिए.

धोनी कोहली से बेहतर कप्तान

तो इन पांच कारणों से महेंद्र सिंह धोनी कोहली से बेहतर कप्तान बोला जा सकता है. कोहली को अगर भारत का नंबर वन कप्तान बनना है तो उनको अभी धोनी के काफी कुछ सीखनाचाहिए.

Don't Miss! random posts ..