ENG | HINDI

हारी बाजी को जीतना सिर्फ इस टीम को आता है

चेन्नई सुपर किंग्स

चेन्नई सुपर किंग्स – दुनियाभर में फुटबॉल के बाद लोग सबसे ज्यादा क्रिकेट को पसंद करते हैं ।

और जब भी क्रिकेट की बात होती है । भारतीयों में एक अलग ही तरह की ऊर्जा आ जाती है । इसलिए क्रिकेट को लेकर भारतीयों के पागलपन पर एक कहावत भी मशूहर है कि भारतीयों का देश प्रेम सबसे ज्यादा या तो सरहद पर नजर आता है या फिर क्रिकेट के मैदान पर । कई बार तो क्रिकेट मैचस को लेकर ऐसे किस्से भी सुने को मिलते है जिन पर यकीन करना मुश्किल हो जाता है । और इसी प्रेम को बढ़ाने के लिए भारत में हर साल आईपीएल का आयोजन होता है । जिसमें विदेश खिलाड़ी भी हिस्सा लेते है और टीमों के नाम भारतीय राज्यों पर होते है । इस साल आईपीएल का ये दसंवा सीजन है ।

ये सीजन क्रिकेट प्रेमियों के लिए पिछले साल के सीजनस से भी ज्यादा दिलचस्प है ।ऐसा इसलिए क्योंकि इस साल आईपीएल की सबसे फेवरिट टीमों से एक मानी जाने वाली चेन्नई सुपर किंग्स ने दो साल के बैन के बाद वापसी की है । और क्रिकेट प्रेमियों और धोनी फैंस को एक बार फिर महेंद्र सिंह पीली जर्सी में नजर आ रहे हैं।

चेन्नई सुपर किंग्स

लेकिन चेन्नई की वापसी के साथ ही उसकी जीत की कहानियां भी एक बार फिर शुरु हो गई है ।

इस आईपीएल सीजन में अब तक चेन्नई सुपर किंग्स ने दो मैच खेलें है ।और दोनों ही मैच चेन्नई ने इस कदर जीतें की हर कोई चेन्नई सुपर किंग्स को मुकदर का सिकंदर कह रहा है । क्योकि जो हारी बाजी को भी जीत में बदल दें वही तो मुकदर का सिंकदर होता है । चेन्नई सुपर किंग्स इस वक्त  दोनों मैच जीतकर दो अंको के साथ दूसरे नंबर पर बनी हुई है । लेकिन चेन्नई सुपर किंग्स भले ही दोनों मैच जीत गई हो । लेकिन चेन्नई के लिए ये दोनों ही जीत पाना आसान नहीं था । चेन्नई का पहला मैच मुंबई इंडियस के साथ जिसने बैन लगने से पहले आईपीएल के पिछले सीजन में चेन्नई को फाइनल में मात दी थी ।

चेन्नई सुपर किंग्स

चेन्नई के लिए पहला मैच जहां अपनी खोई पहचान को वापस पाने का जरिया था । वही मुंबई इंडियस के लिए ये मैच आन बान और शान का था । चेन्नई ने पहले टॉस जीतकर गेंदबाजी का फैसला किया । मुंबई पहले बल्लेबाजी करते हुए 168 रन बनाए । वहीं जब चेन्नई की बल्लेबाजी की बारी आई तो । कुछ वक्त बाद ही चेन्नई के विकेट गिरने लगे । लक्ष्य अभी काफी दूर था । और चेन्नई के 9 विकेट गिर चुके थे लेकिन फिर भी चेन्नई ने अपने आखिरी विकेट के सहारे ही मैच जीत लिया । चेन्नई के लिए सबसे अच्छी पारी ब्रावो ने खेली ।लेकिन दिलचस्प बात ये थी कि मैच में आखिरी बॉल तक फैंस में रोमांच बना हुआ था कि कौन सी टीम जीतेगी लेकिन अंत में चेन्नई ने मुबंई की जीत को हार में बदल ही दिया और आईपीएल में जीत के साथ वापसी की।

चेन्नई सुपर किंग्स

ऐसा ही कुछ चेन्नई के दूसरे मैच में भी देखने को मिला । चेन्नई का दूसरा मैच कोलकत्ता के साथ हुआ । जिसे देखने कोलकत्ता नाइट राइडर्स के फ्रेंचाइसी पार्टनर शाहरुख खान भी आए थे। लेकिन शाहरुख खान को भी कहां पता था कि चेन्नई सुपर किंग्स उनकी टीम के जीत के अरमानों पर पानी फेर देगी ।

आपको बता दें कोलकत्ता नाइट राइडर्स ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 6 विकेट के नुकसान पर 202 रन बन बनाए थे । बड़ा लक्ष्य होने की वजह से चेन्नई के लिए जीत की राह बहुत मुश्किल थी। मैच के आखिरी ओवर तक शाहरुख को भी यकीन था कि उनकी ही टीम जीतेगी । लेकिन आखिरी ओवर में जडेजा ने छक्के मारकर कोलकत्ता के मुंह से जीत छीन ली । चेन्नई ने 5 विकेट के नुकसान पर 205 रन बनाए । और जीत हासिल की ।

चेन्नई के इन मैचों के बाद तो हर कोई यही कह रहा है कि चेन्नई हारी बाजी को भी जीतने का दम रखती है । और कई क्रिकेट एक्सर्पट का तो माना ये भी है कि चेन्नई सुपर किंग्स इस सीजन में भी फाइनल में नजर आ सकती है । लेकिन चेन्नई फाइनल में पहुंचती है या नहीं ये तो वक्त ही बताएगा ।

Article Tags:
·
Article Categories:
क्रिकेट

Don't Miss! random posts ..