ENG | HINDI

यदि आपकी बाजुओं में है दम और दिल में नहीं है डर, तो इंतजार कर रहा है ये करियर

पर्वतारोहण

पूरे विश्व में पर्वतारोहण (माउंटेन क्लाइंबिंग) को एक साहसिक खेल माना जाता है।

यह दुनिया का सबसे ऊंचे  शिखर, माउंट एवरेस्ट या दूसरे सबसे बड़ी चोटी  कराकोरम  रेंज, पर्वतारोहियों ने इसे पेशेवर रूप से प्रशिक्षित लोगों के लिए बिना  सहायता चढ़ने के लिए  बनाया होगा। आसमां छूती  ऊंचाई और घाटी में सूर्योदय  मरने से पहले हरकोई जरूर देखना चाहेगा ।

इसे अपना करियर बनाने और प्रकृति की सुंदरता का आनंद लेने के लिए आप बन सकते हैं परवतारोही लेकिन इसके लिए चाहिए शारीरिक और मानसिक शक्ति तथा ढेर सारी हिम्मत और साहस ।

पर्वतारोहण के प्रकार :

पहड़ों पर चलना या चढ़ना पर्वतारोहियों के  लिए  एक सामान्य गतिविधि है जो कि घूमने के लिए  के पहाड़ों की यात्रा करते हैं । परवतारोहण के निम्न प्रकार होते हैं —

पर्वतारोहण

लंबी पैदल यात्रा (Hiking):

लंबी, तेजी से चलने वाली पैदल यात्रा, लंबी पैदल यात्रा कहलाती है। यह आमतौर पर स्वास्थ्य लाभ के लिए किया जाता है और अभ्यास के रूप में अभ्यास किया जाता है।

चढ़ाई (Climbing):

पर्वत की ऊंचाई को नीचे से ऊपर तक स्केलिंग चढ़ाई कहते हैं।

कैम्पिंगSnow Trekking):

पर्वत में एक साथ दिनों के लिए रहना और इसके आदी हो जाना कैंपिंग कहा जाता है।

पर्वतारोहण

एक पर्वतारोही चढ़ाई गाइड की भूमिकाएं:

एक चढ़ाई गाइड पहाड़ों को स्केल करने में शौकियों की मदद करेगा। भूमि स्लाइड और तापमान परिवर्तन की भविष्यवाणी करने में सक्षम होने के लिए उसे मौसम की स्थिति से अवगत होना चाहिए। वह पहाड़ों के मार्ग और नुकीले और कोने को भी जानता है ताकि वे जहां भी चाहें ग्राहकों को ले जा सकें।

लाइजन अफसर  : 

यह सरकार द्वारा नियुक्त एक आधिकारिक अधिकारी है जो गांव के सरदार के साथ समन्वय करने में मदद करता है ताकि वे यात्रा करने वालों के लिए पर्याप्त सुविधाएं प्रदान कर सकें।

पोर्टर:

कई  बार, एक पोर्टर की आवश्यकता होती है, खासकर जब पहाड़ों पर यात्रा थकाऊ हो जाती है। ऐसे  में  पोर्टर्स अन्य लोगों को अपने सामान ले जाने और पहाड़ों के माध्यम से सभी तरह के बोझ को ढोने में मदद करते हैं। आम तौर पर, एक विशिष्ट जातीय समूह के लोग इस पेशे में आते हैं।

कैसे बनें पर्वतारोही :-

पर्वतारोही  बनने के लिए आपको बेसिक कोर्स करना होता है इसके बाद निश्चित होता है कि आप पर्वतारोहण के किस क्षेत्र में विशेषज्ञता प्राप्त करेंगे।

कोर्स करने वाले कुछ संस्थान :-

पर्वतारोहण

भारत में शीर्ष कॉलेज पर्वतारोहण में पाठ्यक्रम पेश करते हैं:-

  •   नेहरू इंस्टीट्यूट ऑफ पर्वतारोहण, उतारक्षी, उत्तराखंड
  •   जवाहर पर्वतारोहण और शीतकालीन खेल संस्थान, पहलगाम, जम्मू-कश्मीर
  •   राष्ट्रीय पर्वतारोहण और सहयोगी खेल संस्थान, दिरंग, अरुणाचल प्रदेश
  •   हिमालय पर्वतारोहण संस्थान, दार्जिलिंग, पश्चिम बंगाल
  •   अटल बिहारी वाजपेयी पर्वतारोहण और सहयोगी खेल संस्थान , मनाली, हिमाचल प्रदेश

पर्वतारोहण के लिए विदेशों में शीर्ष कॉलेज:-

  • ऑस्ट्रेलियाई स्कूल ऑफ माउंटेनियरिंग, कटुम्बा, ऑस्ट्रेलिया
  • अल्पाइन एस्केंट्स इंटरनेशनल, सिएटल, वाशिंगटन
  • इंटरनेशनल वाइल्डनेस लीडरशिप स्कूल, हैनेस,
  • अलास्का इंटरनेशनल स्कूल ऑफ़ माउंटेनियरिंग, यूनाइटेड किंगडम
  • कोलोराडो माउंटेन कॉलेज, कोलोराडो

पर्वतारोही का वेतन:-

  1.   कुली:  इनको बहुत कम भुगतान किया जाता है । ये एक महीने में लगभग 5000 -15000   ही कमा     सकते हैं ।
  2.   ट्रेक गाइड: स्थानीय पर्वतारोहण कौशल और स्थानीय परिदृश्य और ट्रेवल्स  के ज्ञान के साथ; एक दिन    में लगभग 1000-1500  रूपये  कमा सकते हैं ।अंग्रेजी में बोलकर मदद करता है तो  एक दिन में     लगभग 2000-2500 रूपये कमा सकते हैं।
  3.  चढ़ाई गाइड: इस  व्यवसाय में जो लोग अपने प्रतिष्ठा, कौशल और अनुभव के कारण सख्ती से कमाते   हैं। भारतीय चढ़ाई गाइड के लिए 3000-5000 रुपये प्रति दिन के बीच की अपेक्षा कर सकते हैं।

यदि आपकी बाजुओं में  दम है और दिल में डर नहीं है , साथ ही प्रकृति में रूचि तथा आनंद आता है तो पर्वतारोहण  के पेशे में जाकर  आप अच्छा पैसा कमा सकते हैं। और अनुभव होने पर आप इसे बिजनेस भी बना सकते हैं।

Don't Miss! random posts ..