ENG | HINDI

जब पाकिस्तान में एक मुस्लिम लड़की लगाती है बिंदी तो उसके साथ होता है कुछ ऐसा…!

पाकिस्तान में बिंदी

टीवी सीरियल्स या फिल्मी पर्दे पर आपने कई मुस्लिम अभिनेत्रियों को अपने माथे पर बिंदी लगाते हुए तो देखा ही होगा.

वैसे ज्यादातर मुस्लिम औरतें अपने माथे पर बिंदी लगाने से परहेज करती हैं लेकिन सवाल है कि क्या मुस्लिम औरतें बिंदी लगा सकती हैं और खासकर ये मसला पाकिस्तान की औरतों से जुड़ा हो तो.

हम आपको बता दें कि हिंदुस्तान में जब एक मुस्लिम महिला बिंदी लगाती है तो भले ही उसे कुछ नहीं कहा जाता हो लेकिन पाकिस्तान में जब एक मुस्लिम महिला अपने माथे पर बिंदी लगाकर चलती है तो उसे ना जाने कितने ही सवाल किए जाते हैं.

हालांकि पाकिस्तान में मुस्लिम महिलाएं बिंदी लगाना तो दूर उसे हाथ तक नहीं लगाती हैं, लेकिन हम आपको बताने जा रहे हैं कि जब एक मुस्लिम लड़की पाकिस्तान में बिंदी लगाकर चलती है तो उसके साथ क्या-क्या होता है.

पाकिस्तान में बिंदी लगाने पर किए जाते हैं ये सवाल

भारत के पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में जब एक मुस्लिम महिला या लड़की अपने माथे पर बिंदी लगाकर घूमती है तो उससे कई तरह के असहज करनेवाले सवाल पूछे जाते हैं जैसे-

– तुम अपने माथे पर बिंदी क्यों लगाकर घूम रही हो, ऐसे तो तुम्हें कोई मारकर चला जाएगा ?

क्या तुम हिंदू हो गई हो जो अपने माथे पर बिंदी लगाकर घूम रही हो ?

अपने माथे पर बिंदी मत लगाओ क्योंकि अल्लाह मियां कहते हैं कि जो जैसा बनने की कोशिश करता है, वो वैसा ही हो जाता है.

अपने माथे से बिंदी उतार दो या फिर मेरी गाड़ी में ना बैठो क्योंकि मुझे तुम्हारे साथ मुफ्त में नहीं मरना है.

क्या तुम बाहर भी इसी तरह अपने माथे पर बिंदी लगाकर ही जाओगी ?

 क्या तुम मारवी सिमर्ड से प्रेरित हो गई हो ? आपको बता दें कि मारवी सिमर्ड पाकिस्तान की एक मशहूर सामाजिक कार्यकर्ता हैं जो हिंदुओं और अल्पसंख्यकों के हक की लड़ाई लड़ती हैं और वो अक्सर अपने माथे पर बिंदी लगाती हैं.

हालांकि ये सारे सवाल पाकिस्तान में बिंदी लगानेवाली मुस्लिम लड़की मोमिना मिंदील से उस रोज पूछे गए थे जब वो अपने माथे पर बिंदी लगाकर लाहौर की सड़क पर निकली थी.

वो हर रोज की तरह उस रोज भी अपने दोस्तों से मिली. भले ही मोमिना के लिए अपने माथे पर बिंदी लगाने वाली बात कॉमन थी लेकिन उसके दोस्तों समेत हर किसी को इस बात से ऐतराज था कि आखिर उसने अपने माथे पर बिंदी लगाई ही क्यों ?

हर किसी के ऐतराज जताए जाने के बाद मोमिना ने दो फैसले लिए पहला कि वो किसी को जवाब ही नहीं देगी और दूसरा ये कि वो अपने माथे से बिंदी नहीं हटाएगी. हालांकि मोमिना की ये बिंदी जर्नी थोड़े दिन ही चली लेकिन उसने बिंदी लगाने के दौरान का अपना पूरा अनुभव मैंगोबाज वेबसाइट के लिए लिख दिया.

गौरतलब है कि पाकिस्तान में बिंदी लगाने की वजह से पाकिस्तान की मोमिना को कई ऐसे सवालों का सामना करना पड़ा जिससे वो असहज महसूस करने लगी थी. लेकिन मोमिना की तरह ही पाकिस्तान में अगर किसी मुस्लिम महिला ने अपने माथे पर बिंदी लगा लिया तो उसे भी इसी तरह से आलोचना का शिकार होना पड़ता है.

Don't Miss! random posts ..