ENG | HINDI

दही खाने की कीमत दवाई खाने वाले क्या समझेंगे साहब !

दहीं के फायदे

दहीं के फायदे  – आमतौर पर दही हम सभी के घरों में होती ही है जिसका उपयोग भोजन का सेवन करने से लेकर त्वचा को निखारे में काम आता है।

लेकिन सदियों से दही, दैनिक जीवन में एक तरह से मेडिसिन का कार्य भी करती है और दैनिक जीवन की छोटी-छोटी बीमारी जैसे कब्ज या पाचन की समस्या से निवारण भी कर देती है।

दही से शरीर को मिलने वाले लाभों के अलावा इसके बारे में यह भी कहा जाता है कि दही का उपयोग प्राचीनकाल आहार में 4500 वर्षों से उपयोग में लाया जाता है। हालांकि यहां पर दहीं के फायदे के बारे में बता कर, आपको दही के पूर्ण गुणों की जानकारी से अवगत भी करवाएंगे।

दहीं के फायदे  –

1 – दही का नियमित सेवन करने से खून की कमी और कमजोरी दूर रहती है। दूध जब दही का रूप लेता है तब उसकी शर्करा अम्ल में बदल जाती है। इससे पाचन में मदद मिलती है। जिन लोगों को भूख कम लगती है। उन लोगों के लिए यह लाभदायक है।

2 – दही का दैनिक जीवन में उपयोग करने से आंतों के रोग और पेट संबंधित बीमारियां नहीं होती है।

3 – यदि पेट में गर्मी हो जाए, तो चावल में दही मिलाकर खाना चाहिए। इससे गर्मी की वजह से लूज़मोश्न या दस्त रुक जाएंगे। पेट के अन्य रोगों में दही को सेंधा नमक के साथ लेना लाभदायक होता है।

4 – हड्डियों में ताकत लाने के लिए दही एक बेहतर विकल्प है। क्योंकि इसमें कैल्शियम की अधिक मात्रा होती है। जो हड्डियों के विकास में सहायक होता है। साथ ही, दांतों और नाखुनों को भी मजबूत बनाता है। साथ-ही-साथ मांसपेशियां भी सही से कार्य करती है।

5 – दही, दिल की बीमारी, उच्च रक्त चाप (ब्लडप्रेशर) जैसे रोगों को रोकती है। दही कोलेस्ट्रॉल को बढ़ने से भी रोकती है और दिल की धड़कन को नियंत्रित रखती है।

6 – बवासीर से पीड़ित लोग दही से बनने वाले छाछ के गिलास में अजवायन डालकर पी सकते हैं। इससे उनको इससे राहत मिलेगी।

7 – बढ़ते वजन को थामने के लिए दही का उपयोग उचित माना जाता है। क्योंकि यह दही से एक्सट्रा फैट को घटाता है।

8 – अनिद्रा की बीमारी से परेशान लोग दही का सेवन कर सकते हैं।

9 – मुंह में छालों से परेशान है तो दही को रोजाना दो-तीन बार लगा दें। इससे छाले जल्ती ठीक हो जाएंगे।

ये है दहीं के फायदे  – इस तरह आप दैनिक जीवन की छोटी-छोटी पीड़ा से घबराकर दवाई का सेवन न करके, दही को नियमित आहार में शामिल करें। इससे यह होगा कि रोगों से घिरने वाला शरीर, उचित आयु में बीमारियों के चक्र में फंसेगा। साथ ही आप एक स्वस्थ जीवन भी व्यतीत कर सकेंगे ।

Don't Miss! random posts ..