ENG | HINDI

इस वजह से सुंदर चीज़ें होती है ज़हर के सामान, जानिए क्‍यों ?

सुंदर चीज़ें

सुंदर चीज़ें – कोई वस्तु अच्छी होती है तो कोई बुरी होती है, किसी का साथ अच्छा होता है किसी का बुरा होता है, कोई व्यक्ति हमारे सुख की वजह होता है तो कोई दुख की वजह बन जाता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि परिस्थितियों और अवस्थाओं के हिसाब से भी ये बात तय होती है कि कोई वस्तु आपके लिए उपयोगी है या फिर नुकसानदायक है।

ये भी मुमकिन है कि कोई चीज़ एक अवस्था में आपके लिए बहुत ही उपयोगी है और दूसरी अवस्था में वो वस्तु आपके लिए ज़हर सामान है।

इन्हीं बातों को मौर्य साम्राज्य के संस्थापक चाणक्य जो कि कुशल राजनीतिज्ञ, चतुर कूटनीतिज्ञ, प्रकांड अर्थशास्त्री के तौर पर विख्यात है, उन्‍होंने बखूबी समझाया है।

इतिहास के विद्वान है चतुर व्यक्तियों में से एक चाणक्य ने बड़ी ही कुशलता के साथ इस बात की विभाजन किया है कि कौन सी वस्तु या व्यक्ति किस अवस्था में आपके लिए महत्वपूर्ण है और किस अवस्था में उससे दूरी बना लेना आपके लिए उचित रहेगा।

आइए आपको बताते हैं सुंदर चीज़ें कब कहाँ होती है to कैसी होती है –

१ – बिना अभ्यास के ज्ञान

चाणक्य ने बताया था कि अगर आपके पास ज्ञान है, फिर चाहे वो ज्ञान शास्त्र का हो या फिर शस्त्र का लेकिन आप उस ज्ञान का अभ्यास नहीं करते हैं तो वो ज्ञान बेकार है क्योंकि ऐसा व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति के सामने अपने ज्ञान का बखान तो ज़रूर करेगा लेकिन बिना अभ्यास के वो उस ज्ञान में इतना पारंगत नहीं होगा और उसे अपमान का घूट पीना पड़ेगा।

२ – वृद्ध पुरुष के लिए नव यौवन

ऐसे बॉलीवुड स्टार्स जो नहीं है भारत के नागरिक

अगर किसी नवयुवती की शादी किसी वृद्ध व्यक्ति से कर दी जाती है तो वो उसके लिए ज़हर सामान होता है क्योंकि वृद्ध व्यक्ति के लिए नवयौवन आनन्द का नहीं बल्कि हताशा का विषय है। ऐसे में सुखी वैवाहिक जीवन के लिए ये बहुत ज़रूरी है कि पति और पत्नी दोनों की आयु लगभग बराबर हो क्योंकि अगर पति वृद्ध होगा और वो अपनी पत्नी को संतुष्ट नहीं कर पाएगा तो पत्नी गलत मार्ग पर जा सकती है और पुरुष को हताशा का सामना करना पड़ सकता है।

३ – ख़राब पेट के लिए भोजन

भोजन हमारा जीवन है इसमें कोई दो राय नहीं है लेकिन अगर किसी का पेट खराब है तो उसे भोजन से दूर ही रहना चाहिए क्योंकि पेट खराब होने की स्थिति में स्वादिष्ट से स्वादिष्ट भोजन भी विष समान ही होता है।

४ – गरीब व्यक्ति के लिए फंक्शन

गरीब व्यक्ति के लिए किसी भी समारोह में जाना हताशा का विषय होता है क्योंकि यहां उसे उसकी गरीबी का एहसास होता है, जब सामने सभी अच्छे कपड़े और सजे-धजे होते हैं ऐसे में गरीब व्यक्ति अपने मन को समझा ही नहीं पाता है।

तो अब आप समझे कि सुंदर चीज़ें सिर्फ अच्छी या बुरी नहीं होती है बल्कि वो कहां और कब हमे मिल रही है इससे भी उसकी महत्ता निर्धारित होती है। जीवन में काफी कुछ हालात के साथ बदलता रहता है और ऊपर दिए गए तर्क भी इसकी का उदाहरण है कि सुंदर स्‍त्री भी हमेशा अच्‍छी नहीं होती, उससे भी उसके अपनों को ही हानि हो सकती है।

Don't Miss! random posts ..