ENG | HINDI

क्यों शाहरुख़ और बाकी मुस्लिम एक्टर से बचना चाहते हैं अक्षय कुमार?

अभिनेता अक्षय कुमार

फिल्म इंडस्ट्री में अगर आप ध्यान से देखेंगे तो पता चलेगा कि यहाँ भी ग्रुप बने हुए हैं.

यहाँ पर दो ग्रुप नज़र आता है. एक हिन्दू दूसरा मुस्लिम. भले ही ऊपर से ये लोग ज़ाहिर नहीं होने देना चाहते, लेकिन अंदर ही अंदर एक दूसरे से बैर रखते हैं.

कुछ दिनों पहले की बात है जब अजय देवगन और शाहरुख़ खान के बीच वर्ड्स फाइट देखी गई थी. दोनों आमने सामने नहीं थे, लेकिन फिर भी एक-दूसरे पर वार कर रहे थे. अजय देवगन ने एक तरह से आरोप लगाया था कि जानबूझकर ये मुस्लिम हीरो सारा सिनेमा हॉल बुक कर लेते हैं ताकि किसी और हीरो की फिल्म ठीक तरह से न चल पाए. अजय की ही तरह अक्षय कुमार भी मुस्लिम हीरो से सीधे तौर पर न सही, लेकिन अन्दर ही अंदर खूब जलन रखते हैं.

अभिनेता अक्षय कुमार का देश के लिए हर बात पर खड़े रहते हैं. कुछ सालों से देखा जा सकता है कि अक्षय अपनी फ़िल्में को विषय देशहित वाला ही चुन रहे हैं. इतना ही नहीं जब अक्षय छुट्टियाँ बिताने भी कहीं जाते हैं तो वहां की आयुर्वेदिक चीज़ों की तारीफ करना नहीं भूलते. यानी ये कह सकते हैं कि अक्षय एक सच्चे नागरिक की भूमिका निभा रहे हैं, जो बाकी हीरो नहीं करते. देश में आयी किसी आपदा के लिए अक्षय कुमार पैसे दे देते हैं, लेकिन बाकी मुस्लिम एक्टर की जेब ढीली नहीं होती. अक्षय को इसी बात से चिढ़ है. वो नहीं चाहते कि किसी एक चीज़ पर किसी एक कम्युनिटी का दबदबा रहे.

वो अपने तरीके की फिल्म बनाते हैं और से अच्छा संदेश देते हैं. जितने भी मुस्लिम हीरो हैं वो उस तरह से देश हित में फिल्म नहीं बना पाते और न ही देश के किसी मुद्दे पर खुलकर बात करते हैं.

अभिनेता अक्षय कुमार को इन्हीं सब बातों से चिढ़ मचाती है. उन्हें ऐसा लगता है कि जब इस देश की जनता का पैसा आपकी फिल्म में लग सकता है, तो देश पर किसी तरह की मुसीबत आने पर आप लोगों को भी मदद करनी चाहिए.

अभिनेता अक्षय कुमार की ये बातें सच में काबिले तारीफ़ हैं. उनका मत सच में सच्चा लगता है और वो जिस तरह से फिल्म इंडस्ट्री से संघर्ष करके ऊपर आए, उसकी तारीफ करनी होगी.

Don't Miss! random posts ..