ENG | HINDI

सन 1971 में इस जगह पर हुआ था भारत-पाकिस्तान के बीच भयंकर युद्ध !

भारत पाकिस्तान का युद्ध

भारत पाकिस्तान का युद्ध – भारत और पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान के बीच शुरू से ही तल्ख रिश्ते रहे हैं और इन दोनों देशों के बीच काफी समय से दुश्मनी चली आ रही है. दुश्मनी ऐसी कि वक्त-वक्त पर पाकिस्तान के आतंकी भारत में गैरकानूनी तरीके से दाखिल होकर अपने नापाक मंसूबों को अंजाम देते रहते हैं और हर बार भारत उन्हें सबक सिखाता है.

भारत और पाकिस्तान के बीच हुए करगिल युद्ध के बारे में वैसे तो अधिकांश लोग जानते हैं. इस युद्ध के अलावा भी इन दोनों देशों के बीच कई बार भीषण युद्ध हुए हैं. लेकिन आज हम आपको सन 1971 में हुए भारत पाकिस्तान का युद्ध जिसके बारे में बताने जा रहे हैं जिसमें पाकिस्तान ने भारत के एक खास इलाके में 3000 बम गिराए थे.

भारत पाकिस्तान का युद्ध – राजस्थान के लोंगेवाला पाक ने गिराए थे 3000 बम

दरअसल सन 1971 में 4 और 5 दिसंबर के दौरान राजस्थान के जैसलमेर जिले के लोंगेवाला में भारत और पाक के बीच एक बहुत ही भीषण युद्ध हुआ था. आपको बता दें कि पाकिस्तान के बॉर्डर के करीब स्थित रेगिस्तान के इस छोटे से शहर में करीब 3000 बम गिराए थे.

इस युद्ध में 3 हजार बम गिराने के बावजूद पाकिस्तान को हार का मुंह देखना पड़ा था और इस युद्ध के बाद पूर्वी पाकिस्तान आज़ाद हो गया और बांग्लादेश के रुप में एक नया देश बन गया.

भारत पाकिस्तान का युद्ध – इंडो-पाक पिलर 638 के नाम से मशहूर है यह पोस्ट

आपको बता दें कि जिस जगह पर पाक ने बम गिराए थे उस लोंगेवाला को वर्तमान समय में पोस्ट इंडो पाक पिलर 638 के नाम से जाना जाता है. पाक ने 1971 में इस पोस्ट पर हमला कर दिया था और उनका प्लान जैसलमेर पर कब्जा करने का था लेकिन वो अपने इस मकसद में कामयाब नहीं हो सके.

इस जगह पर मेमोरियल भी बनाया गया है जहां पर टी59 डिस्प्ले में लगाए गए हैं. बताया जाता है कि इस टैंक को भारतीय सैनिकों ने हमला करके अपने कब्जे में ले लिया था. इस जगह पर पंजाब रेजिमेंट, कुमाऊ रेजिमेंट और फील्ड रेजिमेंट के मेमोरियल भी बनाए गए हैं. आपको बता दें कि 1997 की ब्लॉकबस्टर फिल्म ‘बॉर्डर’ की शूटिंग भी इसी जगह पर हुई थी.

भारत पाकिस्तान का युद्ध जहाँ स्थित है 1200 साल पुराना मंदिर

जिस जगह पर भारत पाकिस्तान का युद्ध हुआ था उसी जगह पर तकरीबन 1200 साल पुराना तनोट माता का मंदिर स्थित है और युद्ध के दौरान पाकिस्तान की तरफ से गिए गए 3000 बम इसी स्थान पर फेंके गए थे.

यहां हैरत की बात तो यह है कि इस प्राचीन मंदिर को खरोंच तक नहीं आई थी और बताया जाता है कि यहां गिरे बमों में से करीब 450 बम तो फटे ही नहीं थे. इस युद्ध में मारे गए सैनिकों की याद में हर साल 16 दिसबंर को एक कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है.

भारत पाकिस्तान का युद्ध – गौरतलब है कि जैसलमेर के लोंगेवाला में आज भी 1971 के उस भीषण युद्ध से जुड़ी कई निशानियां देखने को मिल जाती हैं. लेकिन पाकिस्तान द्वारा गिराए गए 3000 बमों के बावजूद भारत ने पाकिस्तान को ऐसी शिकस्त दी थी जिसे आज तक वो भूला नहीं पाया है.

Don't Miss! random posts ..